अगर आप भी होम लोन लेना चाहते हैं तो , जान ले इनकी दरों का ये तरीका

अगर आप भी होम लोन लेना चाहते हैं तो: ज़्यादातर लोग , लोन को ईएमआई या समान मासिक किश्तों में चुकाया जाता है। आपके द्वारा दी जाने वाली ईएमआई आपके बची राशि पर निर्भर करती है जो आपके पास बची है। जैसे ही आप अपने लोन का बकाया भरते हैं, बकाया राशि सीधे सीधे कम हो जाएगा और बकाया राशि पर आपको ब्याज देना होगा ।

जानें कैसे अपना क्रेडिट कार्ड पे बिना फर्क पड़े आप लोन ले सकते है

जैसा की हमें पता है होम लोन दो तरह के होते हैं। पहला फिक्स ब्याज पर लिया जाने वाला लोन और दूसरा रिड्यूजिंग बैलेंस मेथड के आधार पर। फिक्स्ड चार्ज यानी ब्याज पर लोन पर एक फिक्स्ड दर से ब्याज लिया जाता है। और इस तय समय वाले ब्याज को असल मूल में जोड़कर उसकी किस्त बना दी जाती है।

इसे भी पढ़े: बैंक का क़र्ज़ जल्दी निपटाने के लिए करें ये कार्य , जाने कैसे

जानें क्या होता है रिड्यूजिंग मेथड ?

रिड्यूजिंग मेथड को सबसे अच्छा माना जाता है। इसमें ग्राहकों को काफी फायदा भी रहता है। क्योंकि ब्याज के साथ इसमें आपकी बची राशि भी चली जाती है और इस तरह से बची हुई राशि और ब्याज जाने से पहले समय पर लोन कम होता चला जाता है।

इस तरीके से ग्राहकों को फायदा पहुँचता ही पहुंच ता है और उसे कम ब्याज का भुगतान करना पड़ता है। क्योंकि एक तरफ जहां उसका बकाया राशि कम होता है वहीं लोन ली जाने वाली राशि भी कम होती जाती है।

Click to rate this post!
[Total: 2 Average: 2.5]

Leave a Comment