लोन की किस्त न देने पर कब आती है , नीलामी की नौबत जानें इस खबर में

खबरें व्हाट्सप्प पर पाने के लिए,अभी जॉइन करें व्हाट्सप्प ग्रुप
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

लोन की किस्त न देने पर कब आती है: आप जब भी घर खरीदते हैं या निर्माण करते हैं तो होम लोन लेते हैं, इसी तरह कार आदि खरीदते वक़्त कार लोन लेते हैं। इस प्रकार के लोन को सिक्योर्ड लोन की श्रेणी में रखा जाता है क्योंकि इनके बदले में आपको कुछ कुछ अपनी कीमती चीज़ गिरवी रखना पड़ता है। गारंटी के रूप में बैंक के पास संपत्ति। जाहिर सी बात है कि अगर आपने कर्ज लिया है तो उसे भी समय पर चुकाना होगा। अगर आप समय पर कर्ज नहीं चुकाते हैं तो बैंक आपके खिलाफ कार्रवाई शुरू कर सकता है

इसे भी पढ़े : इस योजना पे 2 रुपये इन्वेस्ट करने पे मिलेंगे, 36000 रुपए

बैंक आपको पहले रिमाइंडर भेजता है

अगर आप लोन की दो ईएमआई नहीं देते हैं तो बैंक पहले आपको रिमाइंडर भेजता है। यदि आप अपने होम लोन की लगातार तीन किस्तों में चूक करते हैं, तो बैंक आपको ऋण चुकाने के लिए कानूनी नोटिस भेजता है। लेकिन चेतावनी के बाद भी अगर आपने ईएमआई पूरी नहीं की तो बैंक आपको डिफॉल्टर घोषित कर देगा।

नीलामी से पहले एनपीए

आपने जिस भी बैंक या वित्तीय संस्थान से आपने कर्ज लिया है, अगर आप उस कर्ज की लगातार तीन किस्तें जमा नहीं करते हैं और बैंक की चेतावनी के बाद भी ईएमआई नहीं भरते हैं तो बैंक कर्ज खाते को एनपीए मानता है. अन्य वित्तीय संस्थानों के मामले में यह सीमा 120 दिन है। ऐसे में जो भी डिफॉल्टर होगा, उसे लीगल नोटिस भेजा जाएगा। निर्धारित समय में बकाया भुगतान करने के लिए कहा जाएगा।

Click to rate this post!
[Total: 5 Average: 4.4]
खबरें व्हाट्सप्प पर पाने के लिए,अभी जॉइन करें व्हाट्सप्प ग्रुप
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment