Home Loan: छोटे शहरों के लोग क्यों ले रहे हैं ज्यादा होम लोन? महिलाओं की संख्या में इजाफा

छोटे शहरों के लोग क्यों ले रहे हैं ज्यादा होम लोन– एसबीआई रिसर्च की रिपोर्ट है कि सरकार की स्वामित्व योजना के परिणामस्वरूप महिलाएं छोटे शहरों में अधिक होम लोन ले रही हैं।

हाल के महीनों में, आरबीआई रेपो दर में वृद्धि हुई है, जिससे घर खरीदने का सपना थोड़ा और महंगा हो गया है। रेपो रेट बढ़ने की वजह से ज्यादातर बैंकों ने अपनी ब्याज दरें बढ़ा दी हैं, जिससे ईएमआई बढ़ गई है। हालांकि, अधिकांश लोग गृहस्वामी के अपने सपने को साकार करने के लिए होम लोन की ओर रुख कर रहे हैं।

टियर 3-4 शहरों में बढ़ी मांग

महानगरों और टियर-1, टियर-2 शहरों की तुलना में टियर-3 और टियर-4 शहरों के लोग अब बड़ी संख्या में होम लोन ले रहे हैं, जहां होम लोन लेने वालों की संख्या सबसे अधिक है। कोरोना के चलते बड़े शहरों की तुलना में छोटे शहरों में घरों की मांग में ज्यादा इजाफा देखने को मिला है। यह दावा स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) रिसर्च की एक स्टडी में किया गया है।

ये है डिमांड बढ़ने का मुख्य कारण

सरकार की स्वामित्व योजना के कारण ग्रामीण जिलों में गृह ऋण की मांग में वृद्धि का अनुभव हो रहा है। इस योजना के तहत ग्रामीण अपनी आवासीय संपत्ति के दस्तावेज प्राप्त कर सकते हैं। इसके बाद, संपत्ति के साथ अन्य आर्थिक उद्देश्यों को पूरा किया जा सकता है। छोटे शहरों में भी लोग प्रलेखन प्रक्रिया को पूरा करने के लिए इस योजना का लाभ उठा रहे हैं।

कुल कर्ज में होम लोन की हिस्सेदारी बढ़ी

एसबीआई रिसर्च के अनुसार, छोटे शहरों में होम लोन की बढ़ती मांग से मार्च 2020 में कुल लोन में होम लोन की हिस्सेदारी 13.1 फीसदी से बढ़कर जून 2022 में 14.4 फीसदी हो गई है। पर्सनल लोन और रिटेल लोन में भी होम लोन का 50% हिस्सा होता है। अगले पांच वर्षों में, भारत में होम लोन का बाजार दोगुना होकर 24 लाख करोड़ रुपये होने की उम्मीद है।
महिलाओं की संख्या तेजी से बढ़ी

सरकार की स्वामित्व योजना से छोटे शहरों में कर्ज की मांग बढ़ी है और महिलाएं भी इससे ज्यादा होम लोन ले रही हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना से ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाओं को भी लाभ मिल रहा है और उनका कर्ज लेना तेजी से बढ़ रहा है। महिलाओं के लिए छोटे शहरों में होम लोन लेना आम होता जा रहा है।

Read Also-

एसबीआई रिसर्च की मुख्य विशेषताएं

  • जिन महिलाओं ने होम लोन लिया है, उनका अनुपात छोटे शहरों में, अर्थात् टियर 3 और टियर 4 शहरों में, 12 प्रतिशत से बढ़कर 16 प्रतिशत हो गया है।
  • कुछ जिलों में लगभग 80 प्रतिशत महिलाओं ने गृह ऋण लिया है।
  • 2021-2022 में टियर-3 और टियर-4 शहरों में नए लोन के 36 फीसदी बढ़ने की उम्मीद है।
  • 2019 में यानी कोविड-19 से पहले 33 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई थी।
  • गुजरात के डांग जिले में 86 फीसदी नए होम लोन लेने वाली महिलाएं हैं।
  • इस बीच, अरवल, बिहार और बोटाद, गुजरात में, यह क्रमशः 75% और 63% है।

टियर-2 शहरों में मकानों के दाम बढ़े

इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि टियर-2 शहरों में होम लोन की मांग में वृद्धि के साथ-साथ घर की कीमतों में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी देखी गई है।

  • रायपुर में घर की कीमतों में 19.1% की बढ़ोतरी देखी गई है।
  • गुवाहाटी में 17गुवाहाटी के घरों की कीमतों में राष्ट्रीय औसत से 15.7% की वृद्धि हुई है।
  • वडोदरा में घरों की कीमत में 12.6 प्रतिशत की वृद्धि हुई।
  • विशाखापत्तनम में घरों की कीमत में 11.3% की वृद्धि हुई।
  • सूरत में आवास की कीमत में 11.2% की वृद्धि हुई।
  • जयपुर में कीमतों में 9.6% की बढ़ोतरी हुई है।
Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

Hey, My Name is Kiran. I'm the Owner of this Website. I'm in Banking Sector in Last 5 years . And I have 5 Years of experience in Loan, Finance, Insurance, Credit Card & LIC....

Leave a Comment